top of page
Search

Why Do We Need To Help Others | Do Help To Others | Help और Karma एक दूसरे से जुड़े है! लेकिन कैसे?

Why Do We Need To Help Others | Do Help To Others | Help और Karma एक दूसरे से जुड़े है! लेकिन कैसे? #motivationalblogs #dohelp #dohelpothers


Nature का एक rule है, सिर्फ़ nature का ही नहीं शायद पुरे universe का यह rule है, की हम या इस universe में exist करता कोई भी जिव, जो कुछ भी करता है same ऐसा ही universe के through वह पाता है। जिसे हम "कर्म" के नाम से भी जानते है।

For example, अगर आप कहीं job कर रहे है या business कर रहे है, तो आप वहां अपना input जितना बेहतर देंगे उतना ही बहेतर output भी आपको मिलेगा, It's a fact. अगर आप student है तो आप अपनी exam में वैसा ही result पाएंगे जैसी अापने preparation की होगी।


Same वही चीज़ Help में भी लागु होती है, लेकिन थोड़े अलग ढंग से! अगर आप किसी की help करते है तो आपको भी कभी कहीं न कहीं से help मिलती ही है जब आपको किसीकी help की ज़रुरत हो। लेकिन, ऐसा ज़रूरी नहीं की आपने जिसकी help की है वही आपकी help करेगा! क्योंकि अगर वह अहसान फरामोश होगा तो आपकी हेल्प न भी करे ऐसा हो सकता है। फिर भी, वहां से नहीं तो कहीं और से ही सही, लेकिन आपको help ज़रूर मिलती है या फिर आपका कहीं न कहीं कुछ अच्छा ज़रूर होता है जिससे आपको बेहद फयदा मिल जाए। Overall, कहने का मतलब यह है की अगर आप helping nature रखते है और अगर आप किसीकी help करने की capability भी रखते है और सही में help करते है तो आपका भी कहीं न कहीं कभी न कभी अच्छा ज़रूर होता ही है।


इसलिए, आपका Colleague, दोस्त या रिश्तेदार या अगर कोई भी हो जो आपसे मदद मांगे और अगर आप वह मदद कर सकते हो तो आपको ज़रूर करनी चाहिए, लेकिन बिना किसी expectation के। क्योंकि, अगर आप किसीकी help करेंगे उनसे कुछ expect करके, और वह इंसान आपकी expectation पे खरा न उतरे तो आपको बहुत ठेस पहुंचेगी, आपको यह भी लगने लगेगा की कभी भी किसीकी help नहीं करनी चाहिए, यहाँ सब लोग selfish ही है, कोई किसीका अपना नहीं है etc..। लेकिन, ऐसा सोचना सही बात नहीं है!


आपको एक बात समझनी होगी, कि बिना किसी मतलब के किसी को कुछ देने को ही help कहते है। इसे एक तरह की सेवा समझ लीजिए। अगर हम help करे और बदले में कुछ चाहे तो फिर वह help, help नहीं कहेलायेगी, बल्कि एक तरह का सौदा कहलायेगा! लेकिन, फिर भी आपको कभी न कभी इसका कुछ तो फायदा होगा ही होगा। क्योंकि, यह universe का rule है, जो अापने किया है वैसा ही result आप future में पाओगे, बस सिर्फ़ रूप अलग होगा। यानि, अगर आपने बिना कुछ भी चाहे किसी के लिए कुछ भी किया है, तो आपका वह "कर्म" कभी ज़ाया नहीं होगा। आपको भी कुछ न कुछ ऐसा ज़रूर मिलेगा जिनसे आपको अपनी life में बहुत बड़ा फायदा हो सकें।


अगर आपका helping nature है, तो उसे हंमेशा बरक़रार रखें चाहे आपसे help पाने वाला इंसान एहसानमंद हो या एहसान फरामोश। बस इतना याद रखें, आपका किया कभी खाली नहीं जाएगा।


"If you light a Lamp for somebody, It will also brighten your path."


39 views0 comments

Comments


bottom of page