top of page
Search

How to do when people criticize us | How to do when we criticized | कोई criticize करें तब क्या करें?

How to do when people criticize us | How to do when we criticized | कोई criticize करें तब क्या करें? #motivationalblogs #believeyourself #dealwithcriticism


Goal set करना अपने आपमें एक pleasure देने वाला काम है। और उस goal को हासिल करने के purpose से जब हम काम start करें तब तो एक अलग ही spirit हम अपने अंदर पाते हैं, एक बढ़िया excitement के साथ हम शरुआत करते हैं यह सोच के, कि हम ज़रुर कामियाब हो जाएंगे।

लेकिन हम सब को एक बात तो पता ही है की हम या इस दुनिया का कोई भी इंसान जब भी कुछ नया करने की शरुआत करता है, कोई बड़ा सहस अपनी life में करके खुदको grow करना चाहे तब हमारे आसपास कुछ ऐसे लोग पाए जाते है जो हमें criticize करते हैं, हमारा मज़ाक उड़ाते है या हमें ऐसा कह कर negativity की और divert करने की कोशिश करते हैं जैसे की "यह तेरे बस की नहीं है", "ज़्यादा हवा में मत उड़ो", "चुपचाप जो करते हो करते रहो", "तुम पागल हो", "तुमसे नहीं हो सकता", "शकल देखि है आईने में?", "ये सब असंभव है", "हमने भी किया था कुछ नहीं हुवा", "कुछ हो ही नहीं सकता" Etc...


जब आपके साथ ऐसा हो तब आपको या तो ऐसी जगह से दूर चले जाना चाहिए या फिर आपको उन लोगो से दुरी बना कर ऐसा space अपनाना चाहिए जहां या तो आप अकेले अपना काम कर सकें या अपने अस पास ऐसे लोगो को ही पाएं या रखें जो आपकी सोच से मेल खाते हो। ऐसा environment choose करना आपको हंमेशा positive vibes देगा जो आपके goal की तरफ आपको आगे बढ़ाने में काम लगेगा।


लेकिन यह बात भी सच है की goal इतनी आसानी से हासिल नहीं हो सकता कभी न कभी कहीं न कहीं पर तो अड़चनें आनी ही आनी है! और जब ऐसा होता है तब या तो बेहद challenges एक साथ सामने आ जाते हैं या हमारा जो थोड़ा सा progress हुवा होता है वो सारा fail हो जाता हैं। और तब वह पल होता है जब हम अच्छी खासी हार का सामना करते है। यह सिर्फ आपके और हमारे तक ही सिमित नहीं बल्कि हर एक के साथ होता हैं।


जब भी ऐसी situation create होती है तब सबसे पहले हमारे दिमाग में वही thoughts घूमना शरू हो जाते है जो शरुआत करते time हमें criticize कर रहे लोगो ने कहे होते हैं। इतना ही नहीं, जब तक हम failure या मुश्किलों वाले time से गुज़रते है तब तक जो पिछली बार criticize करने वाले लोग हैं वह फिर से हमें criticize करने के लिए टपक पड़ते हैं। और इस बार तो इतनी हद तक ताने मारने औ मज़ाक उड़ाने जैसी चीज़ें करतें है की हमें वाकही ऐसा लगने लगता है की हम किसी काम के नहीं रहे, हम एक नालायक इंसान है जो अपने life में कुछ नहीं कर सकते, यानि हम पूरी तरह से demotivate होने लगते हैं।


इन सब से बहार निकलना इतना आसान तो नहीं होता लेकिन मुश्किल भी नहीं होता! बस आपको कुछ steps उठाने की ज़रूरत होती हैं। सबसे पहले तो आपको अपने आपसे कुछ self-talk करनी है। जैसे की,


- क्या में वाकही अपनी life में कुछ नहीं कर सकता? अगर नहीं, तो क्यों नहीं कर सकता?

- जो लोग मुझे criticize कर रहे है, मेरा मज़ाक उड़ा रहे हैं उनमें से कितने ऐसे लोग हैं जिन्होंने अपनी life में कुछ बड़ा किया है या करने की कोशिश की हैं?

- क्या वह लोग और में दोनों के शरीर और thinking को एक ही दिमाग चला रहा हैं या अलग अलग?

- वह अपनी life में क्या कर रहे हैं और में अपनी life में क्या कर रहा हूँ?

- क्या मुझे ज़िन्दगीभर ऐसे लोगो की बातो में आकर ऐसी situation में रहना चाहिए जहां जित या success exist ही नहीं करती?

- मुझे अपनी life को ऐसे ही बिना ज़्यादा कोशिशें किये हाथ पे हाथ धरे बैठे रहना चाहिए या तुरंत एक और कोशिश फिर से अपने goal की और करने की तैयारी करनी चाहिए?


यह सब सवाल आपको यह जवाब देंगे जिनसे आपका हौसला वपस उस और बढ़ेगा जहां आपका goal हैं जो आपके dream हैं। एक बात याद रखें की आप सिर्फ और सिर्फ आप हैं तो जो आप कर सकते हो वह कोई और कभी नहीं कर सकता और जो capabilities और power of improvement आप में है वह आपके आसपास के किसी भी व्यक्ति में कभी हो ही नहीं सकती। क्योंकि अगर होती तो वह आपको कभी criticize नहीं करतें उल्टा आपकी help करते।


आपको यह तो पता ही होगा, कि Alexander Graham Bell ने waves की मदद से communication को अपनी काबिलियत से संभव बनाया, न की किसी और के कहने पे। उलटा जब उसने ये सोचा होगा तव उसको भी दूसरे लोगो से ताने वगेरा मिले होंगे, उनको criticize किया गया होगा। लेकिन Graham Bell ने ऐसी बातो से दूर रह कर अपनी सोच पर ज़्यादा ज़ोर दिया और वर्तमान समय में हम और आप उसका बहेतरीन लाभ उठा रहे है।


इस से यह मालूम पड़ता है, की अगर कोई कभी भी wave communication को बेहतर बनाने के लिए एक goal निर्धारित नहीं करता, तो आज जो हम enjoy कर रहे है ऐसा कभी नहीं होता। आप किसी भी बड़े inventors और बड़े business के लोगों के जीवन को देखेंगे, तो आप उनमें एक चीज को common पाएंगे, की उनके पास बड़े goals थे। और इसि लिए आज वह अपने जीवन को ख़ुशी से enjoy कर पा रहे है।


इस लिए "छोड़ो वह रोग की क्या कहते हैं लोग!" इस sentence को अपने दिमाग में रख कर आगे बढ़ते रहें और लगातार कोशिशें करते रहें। एक दिन ज़रूर वह पल आएगा जब आप अपने आपको अपना imagine किया हुवा goal अपनी मुट्ठी में पाएंगे!


"No one can hold you back more against your own Courage and Passion."


14 views0 comments

Comments


bottom of page